विष्णु सहस्त्रनाम पाठ हिंदी Pdf

Introduction

विष्णु सहस्त्रनाम, धर्मिक पाठ्यक्रमों में एक महत्वपूर्ण पाठ है जिसे हिंदू धर्म के अनुयायी विशेष भक्ति और आदर के साथ जपते हैं। भगवान विष्णु के 1000 नामों का दोहराया जाना इसका प्रमुख ध्येय है। यह पाठ करने से अनेक प्रकार के संकटों एवं दुर्भाग्य को नष्ट करने की आशा रखी जाती है।

महत्व

विष्णु सहस्त्रनाम को पाठ करने से साधक भगवान विष्णु का स्मरण करते हैं और उनके गुणों की स्तुति करते हैं। यह पाठ मानवता के लिए सफलता, सुख, शांति एवं समृद्धि की प्राप्ति में सहायक होता है। इसका पाठ हारे हुए प्राणियों के लिए आत्म सम्मान एवं आत्म विश्वास का स्रोत बनता है।

विष्णु सहस्त्रनाम की महिमा

विष्णु सहस्त्रनाम को भगवान वेदव्यास द्वारा रचित 'श्रीमद्भागवतम्' के ‘अनुस्ठानिक पर्व’ के रुप में प्रस्तुत किया गया है। इस हिंदू ग्रंथ में विष्णु सहस्त्रनाम का उल्लेख कई बार किया गया है।

विष्णु सहस्त्रनाम की मुख्यता

विष्णु सहस्त्रनाम पाठकों को विष्णु भगवान के चरित्र, गुण, रूप, नाम एवं महिमा का ज्ञान प्रदान करता है। यह पाठ भक्ति एवं ध्यान की अध्यात्मिक यात्रा में सहायता प्रदान करता है और उन्हें भगवान के साथ एकाग्रता प्राप्त करने में मदद करता है।

अनुष्ठान की विधि

विष्णु सहस्त्रनाम पाठ का अनुष्ठान करने के लिए व्यक्ति को स्नान करना चाहिए और शुद्ध वस्त्र पहनना चाहिए। उसे एक स्थिर एवं शांत वातावरण में बैठकर प्रतिदिन एक ही समय पर पाठ करना चाहिए।

विष्णु सहस्त्रनाम के लाभ

  • ध्यान एवं समर्पण की भावना को बढ़ाता है।
  • अंतर्मुखी एवं ध्यान में सहायक होता है।
  • संघर्षों को दूर करता है और मानसिक चौपटी को दूर करता है।

विष्णु सहस्त्रनाम के मंत्र

"शुक्लांबरधरं विष्णुं शशिवर्णं चतुर्भुजम्।
प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये॥"

FAQs

Q: विष्णु सहस्त्रनाम पाठ कितनी बार करना चाहिए?
A: विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ प्रतिदिन एक ही समय पर करना चाहिए।

Q: विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ किसे करना चाहिए?
A: यह पाठ किसी भी वयस्क व्यक्ति या बच्चे द्वारा किया जा सकता है।

Q: क्या नियमित विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करने से कोई फायदा होता है?
A: हां, नियमित विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करने से मानसिक चौपटी दूर होती है और आत्म समर्पण में वृद्धि होती है।

Q: विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ किस समय करना चाहिए?
A: इस पाठ का सुबह या सायंकाल में पढ़ने का अधिक पुण्य माना जाता है।

Q: क्या विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ ठंड में किया जा सकता है?
A: हां, पाठ सर्दी में भी किया जा सकता है लेकिन जल्दी थंड न जाये।

Summary

विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करने से व्यक्ति को मानसिक और आत्मिक उन्नति होती है और उसे भगवान की भक्ति एवं आशीर्वाद प्राप्त होते हैं। यह पाठ धर्मिक एवं आध्यात्मिक क्षेत्र में अत्यंत महत्वपूर्ण है और साधक के जीवन में सुख, शांति और समृद्धि का साधन करता है।

Leave a comment